Home » Iodex Uses In Hindi | कार्य, लाभ और दुष्प्रभाव

Iodex Uses In Hindi | कार्य, लाभ और दुष्प्रभाव

Iodex Uses In Hindi | शरीर के किसी भी अंग में दर्द होना बड़ी आम बात है। यह हमारे शरीर का एक तरीका है हमें बताने का की यह भाग में कुछ सही नहीं चल रहा है। जिसके बाद हम इसका उपचार करते है और समस्या को गंभीर होने से रोकते है। जोड़ो का दर्द हो या बैक पैन इत्यादि जैसी समस्याओ के लिए Iodex बहुत लम्बे समय से उपयोग में लिया जा रहा है। यह बाम को संक्रमित जगह पे लगाने के कुछ समय बाद ही आपको दर्द से राहत मिलने लगती है। आज के यह लेख Iodex Uses In Hindi में हम यह दवाई के लाभ, दुष्प्रभाव और कार्य प्रक्रिया के बारे में जानेगे।

Iodex Uses In Hindi

Iodex

यह दवाई में बहुत से प्रकार की औषधी और आधुनिक तत्व मिलाये जाते है। Iodex बाम जब भी आपको शरीर के मासपेशी में किसी भी तरह का दर्द हो रहा होता है तब लगाना होता है। यह बाम जोड़ो का दर्द, बैकपेन, गठिया जैसी समस्याओ में उपयोगी माना गया है। इस बाम को आप मार्किट से बिना डॉक्टर के पर्चे भी खरीद सकते हो। और इसका इस्तमाल करते वक़्त आपको जरूर सावधानी रखनी चाहिए। क्युकी अगर अपने बाम ज़्यादा मात्रा में लगाया तो आपको वह प्रभावित क्षेत्र पे जलन भी हो सकती है। बाम को वयक्ति की उम्र और दर्द का प्रकार देख के ही सही मात्रा में लगाए।

नीचे कुछ परेशानिया दी गयी है वैसे मामले में डॉक्टर अपने मरीजों को Iodex उपयोग करने का सलाह देते है :

  • मांशपेशियों में दर्द
  • गठिया
  • मांशपेशियों में सूजन
  • अन्य शरीर के हिस्सों में दर्द

Iodex – कार्य प्रक्रिया

यह दवाई में कुल पांच प्रकार के एक्टिव तत्व पाए जाते है जो शरीर में मौजूद अलग अलग प्रकार के दर्द से राहत दिलाते है। Iodex में तारपीन का तेल, पिपरमिंट, नीलगिरी तेल, लौंग का तेल और विंटरग्रीन तेल जैसे तत्व का उपयोग किया गया है। यह सभी तत्वों में मौजूद गुण आपको दर्द से कुछ ही क्षण में राहत दिलाते है। इसके बारे में विस्तृत चर्चा निचे की गई है।

तत्व का नामलाभ
तारपीन का तेलयह तेल जोड़ों और मांसपेशियों का दर्द से राहत दिलाता है। इसका उपयोग हमेशा सावधानी से करे क्युकी अधिक इस्तमाल करने पे यह त्वचा में जलन और लाली पैदा कर सकता है।
पिपरमिंटयह यूरोप में पाया जाने वाला पौधा है। यह दर्द को ख़तम करने में उपयोगी है। इसमें मौजूद एंटी सेप्टिक गुण रोग को रोकता है और इसके गंभीर असर से मरीज को बचाता है।
नीलगिरी तेलयह तेल जीवाणु और शरीर में फैले संक्रमण को रोकने में सक्षम माना जाता है। मासपेशी में रहे दर्द को दूर करने के लिए यह तेल बहुत ही पुराने समय से उपयोग किया जा रहा है।
लौंग का तेलयह दांत दर्द, सिरदर्द और अन्य शरीर में मौजूद दर्द को जड़ से ख़तम करता है। यह तेल का उपयोग हम खाने में भी करते है। कुछ समस्या में यह त्वचा से जुडी समस्याए भी दूर करता है।

Iodex का सेवन:-

यह बाम का उपयोग दर्द के समय इमरजेंसी में किया जाता है। Iodex को सही तरीके से उपयोग करने पे आपको दर्द से कुछ ही समय में राहत देखने को मिलती है। इस बाम का उपयोग करने के दौरान बहुत सारी चीजों को ध्यान में रखना पड़ता है जिसके बारे में नीचे बताया गया है:-

  • बाम को संक्रमित जगह पे निर्धारित मात्रा में लगाए।
  • लगाने के बाद इसको हलके हाथो से मालिश करे।
  • ज़्यादा देर मालिश ना करे ऐसा करने से जलन हो सकती है।
  • एक बार मालिश करने के बाद अपने हाथ साबुन से धो ले।
  • जब आपके हाथ में बाम हो तब इसको अपने आँख के नज़दीक ना ले जाये।

Iodex का लाभ (Benefits):-

यह बाम को लगाने से बहुत से प्रकार के लाभ देखने को मिलते है। Iodex ना सिर्फ जोड़ो के दर्द में बल्कि यह सिरदर्द से लेके बैकपेन और अन्य मासपेशी के दर्द को दूर करने का कार्य करता है। यह बाम का उपयोग करने के कुछ ही समय में यह अपना असर दिखाना शुरू कर देता है। अगर आप मासपेशी के दर्द से बार बार परेशान रहते है तो यह दवाई आपके लिए लाभ दायक हो सकती है। इसके सेवन से होने वाले लाभ की सूचि निचे दी गई है।

  • यह मांशपेशियों में हुए दर्द को ठीक करने में मदद करता है।
  • यह आर्थराइटिस जैसी बीमारियों को भी ठीक करने का कार्य करता है।
  • गठिया संबंधी बीमारी को भी ठीक करता है।
  • मांशपेशियों में हुए सूजन को भी कम करता है।

Iodex का दुष्प्रभाव (Side Effects):-

यह दवाई का उपयोग करने से कुछ मामूली दुष्प्रभाव होता है जो कि कुछ समय बाद अपने आप ठीक हो जाता है। इन सब को ठीक करने के लिए किसी डॉक्टर की आवश्यकता नहीं पड़ता है। Iodex से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में नीचे बताया गया है:-

  • जलन
  • त्वचा लाल होना
  • खुजली होना
  • अन्य त्वचा से जुडी समस्याए

यह सभी दुष्प्रभाव मामूली रूप से देखने को मिलते है। अगर बाम का उपयोग करने के बाद आपको कोई गंभीर दुष्प्रभाव दिखे तो तुरंत डॉक्टर को संपर्क करे।

Iodex का सेवन किस स्थिति में नहीं करना चाहिए।

कभी कभी हम दवाई का उपयोग करते हैं लेकिन उसका लाभ हमे नही होता है जिसका मुख्य वजह यह है कि हम उस दवाई का उपयोग सही तरीके से नही कर रहे होते हैं। ऐसे में हम जब भी हम किसी नई दवाई का सेवन करे तब हमे उसके बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लेना चाहिए जिससे आपको उस दवाई का उचित लाभ होगा और उसके होने वाले दुष्प्रभाव से भी बच सकते हैं। Iodex का उपयोग करने से पहले नीचे दी गई बातों से को हमेशा ध्यान में रखे:-

  • 12 साल से कम उम्र वाले बच्चो के लिए यह दवाई बिना डॉक्टर को पूछे उपयोग ना करे।
  • अगर आप दवाई में मौजूद किसी तत्व से अलेर्जिक है तो इसका उपयोग ना करे।
  • अगर आप मासपेशी के दर्द के लिए कोई अन्य दवाई ले रहे है तो यह बाम का उपयोग डॉक्टर की सलाह लेने के बाद करे।
  • त्वचा से जुडी समस्या का सामना कर रहे मरीज डॉक्टर की सलाह बिना यह दवाई ना ले।

महत्वपूर्ण सावधानियां:-

  • दवाई को खरीदने के दौरान एक बार एक्सपायरी डेट जरूर देख ले।
  • इसे हमेशा सुखी और ठंडी जगह पर रखे।
  • आँखों के आसपास यह दवाई को उपयोग ना करे।
  • इसे बच्चो के पहुंच से दूर रखे।
  • इस दवाई के पैकेट पर सूरज कि सीधी रोशनी ना आने दे।

Iodex से संबंधित लोगो द्वारा पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न:-

Iodex का उपयोग किसलिए किया जाता है?

इस दवाई का उपयोग मुख्य रूप से मांशपेशियों में दर्द और आर्थराइटिस जैसी समस्यायों को ठीक करने के लिए किया जाता है।

Iodex का उपयोग दिन में कितनी बार करना चाहिए?

यह बाम की मात्रा और एक दिन में कितनी बार उपयोग करना है यह दर्द का प्रकार और मरीज को उम्र पे निर्भर करता है।

Leave a Comment