Home » Shankh Bhasma Uses In Hindi | कार्य, लाभ और दुष्प्रभाव

Shankh Bhasma Uses In Hindi | कार्य, लाभ और दुष्प्रभाव

Shankh Bhasma Uses In Hindi | ज़्यादा तेल और तीखा खाना लम्बे समय तक खाने की वजह से आज लोगो में पेट दर्द और एसिडिटी जैसी समस्या काफी आम बात हो चुकी है। पहले यह समस्या केवल 40 से ऊपर के उम्र के लोगो में देखने को मिलती थी। लेकिन आज हर खाना मिलावटी होने की वजह से यह समस्या कम उम्र के लोगो में भी देखने को मिल रही है। आर्युवेद में पेट दर्द और एसिडिटी से सम्बंधित बीमारियों का हल Shankh Bhasma है। यह एक प्रकार का आर्युवेदिक मिश्रण है जिससे काफी फायदा होता है। इसीलिए आज हम आपको Shankh Bhasma Uses In Hindi के बारे में सभी जानकारी देंगे।

Composition एलोविरा + निम्बू + शंख
कंपनी अलग अलग कंपनी द्वारा बेचा जाता है।
दवा का प्रकारआर्युवेदिक
उपयोगपेट की समस्या दूर करना
कीमत₹198
प्रिस्क्रिप्शन आवश्यक हैहाँ

Shankh Bhasma Uses In Hindi

Shankh Bhasma

यह एक आयुर्वेदिक दवाई है जिसका इस्तेमाल मुख्य रूप से पाचन सम्बन्धी विकार और एसिडिटी जैसी समस्या को ठीक करने के लिए किया जाता है। Shankh Bhasma इस तरह की समस्या को जड़ से ख़त्म करने में सक्षम मानी जाती है। यह मुख्य रूप से आयुर्वेदिक घटको से मिलकर बना है। इसमें पाए जाने वाले मुख्य तत्त्व में निम्बू, शंख और एलोवेरा शामिल है। यह सभी तत्व हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक होते है। और हमें पाचन से सम्बन्धी अनेकों रोगो को ठीक करने में फायदा पहुंचाते है। यह दवाई का इस्तेमाल करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से इसके खुराक के बारे में सलाह ले ले। क्यूंकि इसके खुराक विभिन्न आयु वर्ग के लोगों के लिए अलग अलग हो सकते है। और उन्हें अपने रोगों की गंभीरता के बारे में भी जानकारी जरूर दे ताकि वो आपके लिए उचित सलाह दे सके। 

नीचे कुछ परेशानियां दी गई है वैसे मामले में डॉक्टर अपने मरीजों को Shankh Bhasma उपयोग करने का सलाह देते है:-

  • पेट दर्द
  • एसिडिटी
  • बार बार वोमिट आना
  • डायरिया 
  • सूजन और पेट का फूलना

Shankh Bhasma Uses In Hindi – कार्य प्रक्रिया

यह एक प्रकार का आर्युवेदिक पाउडर है जिसमे मुख्य तत्व Conch shell होता है। इसी के साथ इसमें एलोविरा और निम्बू का मिश्रण भी पाया जाता है। Conch shell एक प्रकार का शंख होता है जिसको साफ़ करके इसको एलोविरा और निम्बू के साथ मिलाया जाता है। यह सभी चीज़ो का मिश्रण ना सिर्फ पेट की समस्या दूर करता हे बल्कि इसी के साथ त्वचा को भी तंदुरस्त बनाता है। Conch shell को ऊपर बताये गए मिश्रण में मिलाने के बाद इसको 800-900* C में बिना ऑक्सीजन के रखा जाता है जब तक इसका पॉवडर नहीं बनके आ जाता। यह प्रोसेस एक जटिल प्रक्रिया है और सबसे खास बात यह दवाई की वही है की यह प्रोसेस के दरमियान इसमें कोई केमिकल का प्रयोग नहीं किया जाता है।

पेट की समस्या दूर करने के लिए अन्य दवाई: Zandu Nityam Tablet Uses In Hindi

Shankh Bhasma Dosage – शंख भस्म का सेवन

किसी भी दवाई का सेवन करने से पहले उस दवाई के बारे में डॉक्टर से सलाह ले लेना चाहिए। और इनके द्वारा बताये गए सलाह के अनुसार ही दवाई का सेवन करे जिससे आपको उस दवाई का ज्यादा लाभ होंगे। कभी कभी हम दवाई का सेवन तो करते है परन्तु उसका लाभ हमें नहीं देखने को मिलता है। इसका मुख्य वजह होता है हम दवाई का सेवन का सेवन सही तरीके से नहीं करते है। अगर आप Shankh Bhasma का उचित लाभ चाहते है तब इसका सेवन करने के तरीके और समय पर विशेष ध्यान दे। यह दवाई के सेवन करने के दौरान निचे बताये गए सलाह को हमेशा ध्यान में रखे। 

  • दवाई की केप्सूल का सेवन आप पानी के साथ कर सकते है
  • पाउडर में शहद या निम्बू का रस मिला के आप इसका सेवन कर सकते है
  • डॉक्टर द्वारा बताई गयी मात्रा में ही हमेशा दवाई का सेवन करे
  • यह दवाई आप खाना खाने से पहले या बाद में भी ले सकते हो

Shankh Bhasma Benefits In Hindi – शंख भस्म के लाभ

पाचन हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरुरी प्रक्रिया है। अगर आप इससे सम्बंधित किसी समस्या से पीड़ित है और इसे ठीक करने के लिए किसी बेहतर दवाई का खोज कर रहे है तब Shankh Bhasma आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो सकते है। यह अपच और पेट फूलने जैसी समस्या को भी ठीक करने में मदद करता है। इसके साथ ही यह दस्त और मटकी जैसी समस्या से भी राहत दिलाने में मदद करता है। यह दवाई के होने वाले लाभ की सूचि निचे दी गयी है। 

  • पेट दर्द ख़तम होता है
  • छाती में हो रहे दर्द में राहत मिलती है
  • त्वचा रिपेयर होती है
  • बार बार वोमिट की समस्या भी दूर होती है
  • दस्त और मतली जैसी समस्या में मरीज को राहत मिलती है
  • पाचन से जुडी समस्या हल होती है
  • शरीर में कैल्शियम की मात्रा भी बढ़ती है

Side Effects Of Shankh Bhasma – शंख भस्म के दुष्प्रभाव

यह एक आयुर्वेदिक चूर्ण है जो की पूर्ण रूप से प्राकृतिक घटकों से मिलकर बना है। इसलिए इसका इस्तेमाल करने पर किसी भी तरह के दुष्प्रभाव नहीं देखने को मिलता है। हालाँकि इसका इस्तेमाल कभी भी अत्यधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए क्यूंकि ऐसा करने पर आपको इसके कुछ दुष्प्रभाव का भी सामना करना पड़ सकता है। इस दवाई का उचित लाभ के लिए इसे हमेशा नियमित रूप से सेवन करने की कोशिश करे। अगर आपको यह दवाई के उपयोग करने से किसी भी तरह के दुष्प्रभाव देखने को मिले तब तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर ले। 

Shankh Bhasma Composition – शंख भस्म के घटक

  • एलोविरा – यह बवासीर और पेट से जुडी अन्य समस्याओं के इलाज में मदद करता है। इसे त्वचा से सम्बन्धी बिमारियों को भी ठीक करने में सहायता मिलती है। इसके साथ ही यह गंजेपन की समस्या को भी दूर करने का कार्य करता है। 
  • निम्बू – यह हमारे शरीर में एंटीऑक्सीडेट के रूप में कार्य करता है। यह हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने में मदद करता है। यह कोलेस्ट्रॉल को काम करने में मदद करता है। 

Shankh Bhasma को किस स्थिती में सेवन न करे

दवाई का सेवन तो लोग किसी न किसी बीमारी को ठीक करने के लिए अक्सर करते रहते है क्यूंकि अब पहले जैसे लोग ज्यादा स्वस्थ नहीं रहते है और उन्हें अनेको तरह की बीमारियां होते रहती है। लेकिन कुछ ऐसी परिस्थियाँ होती है जिसमे दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए। आपने देखा होगा की कभी कभी लोग दवाई का सेवन तो करते है परन्तु उन्हें उस दवाई का लाभ नहीं मिलता है। इसका मुख्य वजह होता है की हम दवाई का सेवन सही तरीके से नहीं कर रहे होते है। इसलिए जब भी हम किसी नयी दवाई का सेवन करे तब उसके बारे में डॉक्टर से अच्छी तरह से जानकारी ले ले। Shankh Bhasma का सेवन हमें किस स्थिति में नहीं करना चाहिए उसके बारे में जानकारी निचे दी गयी है जिसे हमेशा ध्यान में रखे:-

  • दवाई के पावडर को कभी बिना निम्बू और शहद के बिना ना ले
  • बिना निम्बू और शहद के बिना इसका पॉवडर लेने से शरीर को नुक्सान हो सकता है
  • बच्चो की पहुंच से यह दवाई दूर रखे
  • गर्भवती और स्तनपान करने वाली महिलाये यह दवाई का सेवन ना करे

महत्त्वपूर्ण सावधानियां:-

आज के इस मॉडर्न युग में लोगो की रूचि आर्युवेदिक दवाई की और काफी बढ़ चुकी है। ऐसे में हमें दवाई के सेवन करते वक़्त या इसकी खरीदी करते वक़्त कुछ चीज़े ध्यान में रखना बहुत ही जरूरी है वरना इसके दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते है। Shankh Bhasma का सेवन करते वक़्त आप निचे दी गयी सावधानियों का ध्यान जरूर से रखे।

  • दवाई लेते वक़्त इसका एक्सपायरी डेट जरूर चेक करे
  • दवाई को डॉक्टर द्वारा बताये गए प्रवाही के साथ ही ले
  • यह दवाई गर्भावस्था में लेने से नुक्सान हो सकता है (यह परिस्थिति हर महिला के ऊपर लागू नहीं होती है)
  • अगर आने वाले 2 या 3 सप्ताह में आपका ऑपरेशन है तो दवाई लेने से पहले डॉक्टर को जरूर पूछे

Shankh Bhasma Uses In Hindi Conclusion

यह एक आयुर्वेदिक चूर्ण है जिसका इस्तेमाल मुख्य रूप से पाचन से सम्बंधित समस्यायों को ठीक करने के लिए किया जाता है। यह दवाई की खास बात यह है की इसमें किसी भी तरह  केमिकल्स का इस्तेमाल नहीं किया है। यह पूर्ण रूप से प्राकृतिक तत्वों से मिलकर बना है इसलिए इसका सेवन करने पर किसी भी तरह के दुष्प्रभाव नहीं देखने को मिलते है। यह दवाई का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह ले ले। 

Shankh Bhasma को लेकर मरीजों द्वारा कुछ पूछे जाने वाला सवाल:-

शंख भस्म का उपयोग किस लिए किया जाता है?

यह दवाई मुख्यतौर पे पेट और एसिडिटी से जुडी समस्या ठीक करने के लिए उपयोग में लिया जाता है।

क्या Shankh Bhasma को लंबे समय तक लिया जा सकता है?

नहीं यह दवाई हमेशा डॉक्टर द्वारा बताये समय तक ही ले, इसके ज़्यादा सेवन करने से दष्प्रभाव हो सकते है।

क्या शंख भस्म को गर्भवति महिला सेवन कर सकती है?

नहीं यह दवाई गर्भवती महिलाओ को सेवन नहीं करनी चाहिए।

Leave a Comment